Hazaron khwaishen aisi

Mirza Ghalib often returns from the grave to tug at my heartstrings. Always at opportune moments. I’ve often discovered specific ghazals which seem to apply in their entirety to the situation I find myself in. Perhaps this is another illustration of the principal, “The more personal it is, the more universal it is!”

Here is Hazaaron Khwaishen aisi… Bits and pieces of this ghazal are floating around the internet; certain individual stanzas are more popular than the rest. Here is the most complete version I am aware of. I wish I could translate for those who don’t understand the language, but while I can appreciate the ghazal, I am sadly incapable of translating it in all its beauty.

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यूँ मेरा क़ातिल क्या रहेगा उसकी गरदन पर
वो ख़ूँ जो चश्म ए तर से उम्र भर यूँ दमबदम निकले

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बेआबरू होकर तेरे कूंचे से हम निकले

भरम खुल जाए ज़ालिम तेरे क़ामत की दराज़ी का
अगर इस तराहे पेचोख़म का पेचोख़म निकले

मगर लिखवाए कोई उसको ख़त तो हम से लिखवाए
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर क़लम निकले

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा आशामी
फिर आया वो ज़माना जो जहाँ में जाम-ए-जाम निकले

हुई जिनसे तवक़्क़ो ख़स्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज़्यादा ख़स्ता ए तेग ए सितम निकले

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख के जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

ख़ुदा के वास्ते पर्दा ना काबे से उठा ज़ालिम,
कहीं ऐसा ना हो यहाँ भी वही काफिर सनम निकले ।

कहाँ मैख़ाने का दरवाज़ा ग़ालिब और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले

Leave a Comment